आसमानी आफत बनकर आई बरसात, भूस्खलन के बाद गंगोत्री चारधाम यात्रा पर रोक

Must Read


देहरादून
उत्तराखंड में लगातार हो रही बारिश आफत बनती जा रही है। भारी बरसात के बाद लगातार हो रहे भूस्खलन की वजह  से गंगोत्री चारधाम यात्रा पर रोक लगा दी गई है। प्रशासन द्वारा अगले दो दिनों तक गंगोत्री चारधाम यात्रा पर रोक लगाई गई है। वहीं दूसरी ओर, चारधाम यात्रा पर जाने वाले श्रद्धालुओं को सावधान रहने की भी हिदायत दी गई है। मौसम विभाग ने बारिश पर अलर्ट जारी किया है। उत्तराखंड में अगले दिन कई जिलों के लिए बारिश पर ऑरेंज अलर्ट जारी किया गया है, जबकि कुछ जिलों में भारी बारिश की भी चेतावनी जारी की गई है। मौसम विभाग के अनुसार, शनिवार को उत्तरकाशी, चमोली, बागेश्वर, पिथौरागढ़, ऊधमसिंहनगर व हरिद्वार जिले में कहीं-कहीं भारी से बहुत भारी बारिश होने की आशंका है।

प्रदेशभर में कई सड़कें बंद
उत्तराखंड में पिछले दो दिनों से जारी बारिश की वजह से कई सड़कें बंद हो गईं हैं। चारधाम यात्रा रूट सहित हाईवे बंद होने की वजह से जगह-जगह यात्री फंस गए हैं। पुलिस-प्रशासन द्वारा बंद सड़कों को खोलने का काम जारी है, लेकिन खराब मौसम लगातार बाधा बना हुआ है।

गंगोत्री हाईवे पर 40 घंटे बाद आवाजाही सुचारु
उत्तरकाशी जिले में बारिश के कारण भटवाड़ी से आगे हेलगूगाड़ के पास पिछले 40 घंटों से बंद गंगोत्री राष्ट्रीय राजमार्ग को वाहनों की आवाजाही के लिए खोल दिया गया है। राजमार्ग खुलने से जगह-जगह फंसे हजारों यात्रियों ने राहत की सांस ली। इसके साथ ही गंगोत्री धाम की यात्रा फिर से चालू हो गई है। भारी बारिश के कारण बीते बुधवार रात को हेलगूगाड़ के पास भारी मात्रा में मलबा आने से गंगोत्री हाईवे पर आवाजाही बंद हो गई थी। हालांकि राजमार्ग कुछ देर खुलने के बाद गुरुवार सुबह को बंद हो गया।अब मार्ग खुल गया है।

यमुनोत्री हाईवे डबरकोट में हुआ बंद
यमुनोत्री हाईवे पर शुक्रवार दोपहर बाद डबरकोट के पास मलबा आने से आवाजाही बंद हो गई है। एनएच बड़कोट की जेसीबी मशीन मौके पर पहुंची है और हाईवे को बहाल करने में जुटी है।  

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest News

पंप स्टोरेज तकनीक से बिजली संयंत्र लगाने डीपीआर बनाएगा वैपकास, प्रदेश में पांच स्थानों पर हाइड्रो इलेक्ट्रिक प्रोजेक्ट के विस्तृत परियोजना रिपोर्ट बनाने हुआ...

रायपुर, 29 नवंबर 2022। प्रदेश में 7700 मेगावाट के पांच पंप स्टोरेज हाइडल इलेक्ट्रिक प्लांट लगाने की विस्तृत परियोजना...

More Articles

joker ดาวน์โหลดufabet
Home
Install
E-Paper
Log-In