पीएफआई कार्यकर्ता हिंसा मामले में 53 केस दर्ज किए, 127 हिरासत में

Must Read


तिरुवनंतपुरम
एनआईए की छापेमारी से क्रोधित पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएफआई) ने राज्य में हंगामा किया और केएसआरटीसी की 70 बसों को नुकसान पहुंचाया। इसके अलावा भी अन्य संपत्तियों और वाहनों को नुकसान पहुंचाया गया। प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) और राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) द्वारा गुरुवार तड़के संयुक्त अभियान के तहत पीएफआई कार्यकर्ताओं ने अपने नेताओं सहित 19 साथी कार्यकर्ताओं की गिरफ्तारी के विरोध में सुबह से शाम तक बंद का आह्वान किया।

केरल उच्च न्यायालय द्वारा शुक्रवार को राज्य में एक हड़ताल के अवैध आह्वान के लिए पीएफआई के नेताओं के खिलाफ कड़ी निंदा और स्वत: संज्ञान कार्यवाही शुरू करने के बाद चीजें बदलती दिखाई दीं।

न्यायमूर्ति ए के जयशंकरन नांबियार और न्यायमूर्ति मोहम्मद नियास की खंडपीठ ने अदालत के आदेश का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की।

इसके बाद केरल पुलिस हरकत में आई और शाम तक 127 लोगों को गिरफ्तार किया गया, 53 मामले दर्ज किए गए और 229 लोगों को एहतियातन हिरासत में लिया गया।

कन्नूर में, एक आरएसएस कार्यालय पर हमला किया गया। पुलिस ने पेट्रोल बम ले जा रहे एक पीएफआई कार्यकर्ता को हिरासत में लिया था।

इसी तरह, पीएफआई कार्यकर्ताओं द्वारा जबरन दुकानें बंद करने और विरोध करने वालों पर शारीरिक हमला करने की कई खबरें थीं।

सुबह से शाम तक बंद का सबसे ज्यादा असर राज्य के मुस्लिम गढ़ इलाकों में देखा गया।

राज्य भर के शैक्षणिक संस्थान भी बंद रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest News

पंप स्टोरेज तकनीक से बिजली संयंत्र लगाने डीपीआर बनाएगा वैपकास, प्रदेश में पांच स्थानों पर हाइड्रो इलेक्ट्रिक प्रोजेक्ट के विस्तृत परियोजना रिपोर्ट बनाने हुआ...

रायपुर, 29 नवंबर 2022। प्रदेश में 7700 मेगावाट के पांच पंप स्टोरेज हाइडल इलेक्ट्रिक प्लांट लगाने की विस्तृत परियोजना...

More Articles

joker ดาวน์โหลดufabet
Home
Install
E-Paper
Log-In