शराब तस्करी अब पंजाब से हरियाणा व चंडीगढ़ में हाे रही है , रोकने को अफसर कर रहे हैं बैठक

Must Read


चंडीगढ़
पंजाब , हरियाणा और चंडीगढ़ में शराब तस्‍करी का मामला बड़ा मुद्दा रहा है। शराब तस्‍करी को पंजाब एवं हरियाणा  हाई कोर्ट ने कड़ा रुख दिखाया और संंबंधित तीनों राज्‍यों को बैठक कर इसे रोकने का उपाय निकालने को कहा। इसके बाद पंजाब और हरियाणा के डीजीपी और आबकारी विभाग के अधिकारी शराब तस्करी के मामलों को लेकर संयुक्‍त बैठक करेंगे। बैठक में चंडीगढ़ के अधिकारी भी शामिल होंगे।

अब तक पंजाब में हरियाणा और चंडीगढ़ से शराब तस्करी के मामले सामने आते रहे हैं। लेकिन, अब पंजाब में नई आबकारी नीति लागू होने के बाद शराब सस्ती हुई है। इस कारण अब पंजाब से हरियाणा और चंडीगढ़ में शराब लाए जाने के मामले सामने आ रहे हैं।

हाई कोर्ट के निर्देश पर पंजाब , हरियाणा व चंडीगढ़ के अधिकारियों की बैठक
पंजाब पुलिस के सूत्रों के अनुसार संभावना है कि बैठक में अब चंडीगढ़ और हरियाणा के अधिकारी उनके राज्यों में पंजाब से शराब तस्करी का मुद्दा उठा सकते हैं। बता दें कि शराब तस्‍करी को लेकर पंजाब एवं हरियाणा हाई कोर्ट ने इस तरह की बैठक कर इसे राेकने के उपाय पर चर्चा का निर्देश दिया था। बैठक में उठने वाले मुद्दों पर हरियाणा और पंजाब के साथ चंडीगढ़ के शराब कारोबा‍रियों की नजर है। तस्करी के मामलों में हाई कोर्ट ने सख्ती दिखाते हुए इसका हल ढूंढने के आदेश दिए थे।

बता दें कि पंजाब व हरियाणा में शराब तस्‍करी को लेकर काफी विवाद रहा ह‍ै। पहले चंडीगढ़  और हरियाणा में शराब सस्‍ती हाेने की वजह से वहां से पंजाब में इसकी तस्‍करी होती थी। लेकिन, पिछले दिनों पंजाब की भगवंत मान सरकार ने नई शराब नीति लागू की थी और इससे पंजाब में शराब सस्‍ती हो गई। इससे यह मामले सामने आए कि अब पंजाब से हरियाणा और चंडीगढ़ में शराब की तस्‍करी हो रही है।  पंजाब एवं हरियाणा हाई कोर्ट ने पिछले दिनों तीनों राज्‍यों को शराब की तस्‍करी रोकने के लिए सख्‍ती से कदम उठाने को कहा था। हाई कोर्ट के आदेश पर आज चंडीगढ़ में यह बैठक हो रही है।   

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest News

पुलकित आर्य के पिता और भाई को भाजपा ने पार्टी से किया निष्कासित

  हरिद्वारउत्तराखंड में अंकिता भंडारी हत्याकांड के मुख्य आरोपी पुलकित आर्य और उसके परिवार पर प्रशासन का शिकंजा...

More Articles

Home
Install
E-Paper
Log-In