बच्चों को स्कूल फीस जमा नहीं करने पर बनाया बंधक, प्रबंधन ने छात्रों को वॉशरूम जाने पर लगाई पाबंदी

Must Read


जयपुर
राजस्थान की राजधानी जयपुर स्थित एक प्राइवेट स्कूल में प्रबंधन का आमानवीय बर्ताव सामने आया है। स्कूल फीस जमा नहीं करने पर स्कूल प्रबंधन ने करीब 40 छात्र-छात्राओं को बंधक बना लिया। अभिभावकों का आरोप है कि उनके बच्चों को खाने-पीने और शौचालय जाने पर प्रतिबंध लगा दिया गया।

लाइब्रेरी में बनाया छात्रों को बंधक
जानकारी के मुताबिक, जयपुर के सुबोध पब्लिक स्कूल में फीस जमा नहीं करने वाले छात्र-छात्राओं को प्रबंधन ने पुस्तकालय में बंद कर दिया। इनमें कक्षा आठ से बारह तक के 40 छात्र-छात्राएं शामिल है। छात्र-छात्राओं के अभिभावकों ने आरोप लगाया कि इस बार में समय पर फीस जमा नहीं करा सके तो उनके बच्चों को स्कूल की ओर से मंगलवार को पुस्तकालय में बंधक बनाया गया।

बच्चों को प्रताड़ित करने का आरोप
अभिभावक एकता संघ के अध्यक्ष मनीष विजयवर्गीय ने बताया कि जिन छात्र-छात्राओं के अभिभावक समय पर फीस जमा नहीं करवा सके उन्हे पिछले कुछ दिनों से मानसिक रूप से प्रताड़ित किया जा रहा था। मंगलवार को तो उन्हे पुस्तकालय में बंद ही कर दिया गया। इस दौरान न तो बच्चों को शौचालय जाने दिया गया और न ही भोजन करने दिया। बाद में कुछ छात्रों ने अपने मोबाइल से अभिभावकों को फोन किया तो वे स्कूल पहुंचे।

पुलिस ने बच्चों को कराया आजाद
अभिभावकों की सूचना पर मौके पर पहुंची पुलिस ने छात्र-छात्राओं को बाहर निकाला। ऐसे में शिक्षा विभाग को स्कूल प्रबंधन के खिलाफ सख्त कार्रवाई करनी चाहिए। अगर ऐसा नहीं किया गया, तो अभिभावक आंदोलन करेंगे।

स्कूल ने आरोपों को किया खारिज
उधर स्कूल की प्रधानाध्यापक कमलजीत यादव ने आरोपों को बेबुनियाद बताते हुए कहा कि छात्र-छात्राओं को फीस जमा नहीं करवाने की वजह से बंद नहीं किया गया है। कुछ लोगों ने गलत तरीके से वीडियो वायरल किया है। स्कूल प्रबंधन ने केवल फीस जमा करवाने के लिए सामान्य तरीके से कहा था, कोई दबाव नहीं बनाया गया। अभिभावक पूरे प्रकरण को गलत तरीके से पेश कर रहे हैं ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest News

संकेत साहित्य समिति का स्थापना दिवस मनाया गया

रायपुरसंकेत साहित्य समिति का इकतालीसवाँ स्थापना दिवस बैस भवनमें रविशंकर विश्व विद्यालय के कुलपति प्रो. केशरी लाल वर्मा...

More Articles

Home
Install
E-Paper
Log-In