पाकिस्तान ने आतंकवादी को अपना माना और उसका शव भी स्वीकार किया

Must Read


श्रीनगर

भारत ही नहीं, दुनिया के कई देशों ने समय-समय पर पाकिस्तान को आतंकवादियों का पनाहगार देश बताया है। हालांकि, पड़ोसी मुल्क इस बात से लगातार इनकार करता आ रहा है। इस बीच पहली बार उसने एक आतंकवादी को अपना माना और उसका शव भी स्वीकार किया। यह आतंकवादी घुसपैठ कर लाइन ऑफ कंट्रोल (LoC) के रास्ते भारत में घुसपैठ की कोशिश की। हालांकि भारतीय जवानों ने उसे पकड़ा लिया। सेना की हिरासत में उसने कई राज उगले, जो कि पाकिस्तान को बेनकाब  करने के लिए काफी था।

आपको बता दें कि दो दशकों से अधिक समय में पहली बार पाकिस्तान ने सोमवार को लश्कर-ए-तैयबा के एक प्रशिक्षित आतंकवादी के शव को स्वीकार किया है। वह 21 अगस्त को राजौरी जिले के नौशेरा सेक्टर में एलओसी के रास्ते घुसपैठ किया, जहां उसे पकड़ लिया गया। उसे गोली भी लगी थी। इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई थी।

पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर के सबजाकोट निवासी तबारक हुसैन (32) का शव भारतीय सेना ने पुंछ जिले में नियंत्रण रेखा पर चाकन दा बाग क्रॉसिंग प्वाइंट पर पुलिस और सिविल अधिकारियों की मौजूदगी में पाकिस्तान को सौंपा। राजौरी के एक सैन्य अस्पताल में कार्डियक अरेस्ट से उसकी मौत हो गई थी।

हुसैन को भारतीय सैनिकों ने गोली मार दी, जिसमें वह गंभीर रूप से घायल हो गया। बाद में उसे राजौरी के सैन्य अस्पताल में रेफर कर दिया गया, जहां उसकी एक सर्जरी हुई। इतना ही नहीं भारतीय सैनिकों ने मानवता दिखाते हुए उसकी जान बचाने के लिए तीन यूनिट रक्तदान भी किया।

हुसैन ने खुलासा किया था कि उसे पाकिस्तान की एक खुफिया एजेंसी ने नौशेरा सेक्टर में अग्रिम चौकियों की रेकी करने का काम सौंपा था। उसने अधिकारियों को बताया था कि पाकिस्तानी खुफिया विभाग के एक कर्नल ने उसे भारतीय सेना की अग्रिम चौकियों पर हमला करने के लिए 30,000 पाकिस्तानी रुपये दिए थे।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest News

संकेत साहित्य समिति का स्थापना दिवस मनाया गया

रायपुरसंकेत साहित्य समिति का इकतालीसवाँ स्थापना दिवस बैस भवनमें रविशंकर विश्व विद्यालय के कुलपति प्रो. केशरी लाल वर्मा...

More Articles

Home
Install
E-Paper
Log-In